15 C
Uttar Pradesh
Wednesday, January 20, 2021
Home Blog Page 19

lock down के चलते गांव में हुई शादी में आये केवल 4 लोग

0

उत्तरप्रदेश के बिजनोर जिले के हरपुर गांव में lockdawn के दौरान हुई शादी में दूल्हे सहित केवल 4 लोग ही आ पाए।
वृहस्पतिवार 16 अप्रैल की सुबह 6 बजे के समय दूल्हा ओर उसके पिता तथा दूल्हे के मामा ओर पंडित ये 4 लोग आए।3 घंटो के अन्दर ही शादी के सारे रीति रिवाज़ पूरे किए गए ।यह शादी पिता के द्वारा आर्थिक स्थिति को देखते हुए lockdawn में ही कर दी गयी
गरीब पिता ने अपनी बेटी का कन्यादान अच्छे से कर दिया ।लड़के बाले ने इसलिए सादी lock down में की क्योंकि शादी में ज्यादा ख़र्च न करना पड़े।
Corona virus के चलते लोगो ने social distence का पालन भी किया और उचित दूरी बनाए रखी।

बहुत से लोग आर्थिक स्थिति को देखके ही इस समय अपने बच्चों की शादी कर रहे हैं।
आस पास की लोकल एरिया में ऐसे बहूत से case देखने को मिले हैं

भदोही : पांच बच्चों को लेकर गंगा नदी में कूदी मां, खुद तैरकर आ गई बाहर, बच्चों का नहीं चला पता

0

भदोही: उत्तर प्रदेश के भदोही जिले में एक दर्दनाक घटना सामने आई है. यहां एक मां ने अपने 5 बच्चों को गंगा नदी में फेंक दिया. यह घटना शनिवार देर रात लगभग 2 बजे की है. स्थानीय पुलिस को ग्रामीणों से घटना की जानकारी रविवार सुबह मिली. पुलिस ने इसके बाद बचाव कार्य (रेस्क्यू ऑपरेशन) शुरू किया. भदोही पुलिस के मुताबिक यह घटना जिले के गोपीगंज कोतवाली क्षेत्र में पड़ने वाले जहांगीराबाद गांव के गंगा घाट की है।भदोही-न्यूज़

पुलिस के मुताबिक जहांगीराबाद गांव की रहने वाली मंजू देवी शनिवार देर रात 2 बजे के करीब अपने दोनों बेटों और तीनों बेटियों को लेकर गांव के बगल से ही बहने वाल गंगा नदी के किनारे पर पहुंची. इसके बाद वह अपने सभी बच्चों को लेकर नदी की गहराई में उतर गईं. मंजू देवी ने बच्चों को तो नदी के बीचों-बीच छोड़ दिया और खुद तैरकर किनारे पर चली आईं।

बच्चे नदी में ही रह गए और मंजू देवी अपने घर पहुंच गईं. मंजू देवी ने पुलिस को बताया कि उनका अपने पति से अक्सर झगड़ा होता रहता था जिससे वह बेहद परेशान हो गई थीं. उन्होंने इसी गुस्से में यह कदम उठाया. मंजू देवी जब अपने बच्चों को लेकर गंगा घाट निकलीं उस समय उनके पति घर पर मौजूद नहीं थे।उनके बच्चों का नाम वंदना (12 साल), रंजना (10 साल), पूजा ( 6 साल), शिव शंकर ( 8 साल), संदीप (5 वर्ष) है जिनको वह गंगा नदी में बहा आईं. घटना की सूचना मिलने पर भदोही डीएम और एसपी मौके पर पहुंचे. पुलिस फोर्स भी उनके साथ मौके पर पहुंची और स्थानीय गोताखोरों की मदद से बच्चों की नदी में तलाश शुरू की. अभी बच्चों का पता नहीं लग सका है।( ऐसी ही देश और दुनिया की खबरे तुरंत पाने के लिए आप हमारे फेसबुक पेज Village News Hub को लाइक करले । )

उत्तर प्रदेश के 75 में से 47 जिले कोरोना मुक्त हैं। यहाँ सील जिलों की लिस्ट देखे ।

0

संक्रमित जिले – अलीगढ़, आगरा, आजमगढ़, बागपत, बांदा, बरेली, बस्ती, बुलंदशहर, फिरोजाबाद, गौतमबुद्धनगर, गाजियाबाद, गाजीपुर, हरदोई, हापुड़, हाथरस, जौनपुर, कानपुर, लखीमपुर खिरी, लखनऊ, महारजगंज, मेरठ, मुरादाबाद, पीलिभीत, प्रतापगढ़, सहारनपुर, शाहजहांपुर, शामली और वाराणसी।

सुरक्षित जिले – अंबेडकर नगर, अमेठी, अमरोहा, औरैय्या, अयोध्या, बहराइच, बलिया, बलरामपुर, बाराबंकी, भदोही, बिजनौर, बंदायुं, चंदौली, चित्रकूट, देवरिया, एटा, इटावा, फरूखाबाद, फतेहपुर, गोंडा, गोरखपुर, हमीरपुर, जालौन, झांसी, कन्नौज, कानपुर देहात, कासगंज, कौशांबी, कुशी नगर, ललितपुर, महोबा, मैनपुरी, मथुरा, मऊ, मिर्जापुर, मुजफ्फर नगर, प्रयागराज, रायबरेली, रामपुर, संभल, संत कबीर नगर, श्रावस्ती, सिद्धार्थ नगर, सीतापुर, सोनभद्र, सुल्तानपुर और उन्नाव।
योगी सरकार का नया फरमान जारी।

UP के 21 जिलों में 10 मई तक लॉकडाउन रहेगा।

1.लखनऊ
2.आगरा
3.कानपुर
4.बरेली
5.सीतापुर
6.मुरादाबाद
7.रामपुर
8.संभाल
9.अलीगढ़
10.हाथरस
11.बुलंदशहर
12.नोएडा
13.हापुड़
14.गाज़ियाबाद
15.मेरठ
16.सहारनपुर
17.मुज़फ्फरनगर
18.बागपत
19.शामली
20.बिजनौर
21.प्रयागराज

( ऐसी ही देश और दुनिया की खबरों को पढ़ने के लिए हमारे Facebook Page को लाइक करले )

कोरोना वायरस की तरह इस virus ने कर दिया था भारत के इस गाव को तबाह

0
कोरोना वायरस की तरह आया एक वायरस भारत मे फैल गया था और भारत के बहुत से गांव उजाड़ दिए थे1920 में चला जो संक्रमण जब धीरे धीरे भारत मे फैलना शुरू हुआ तो उससे संक्रमित होने बाले लोगो का आंकड़ा बहोत अधिक था लेकिन केवल भारत मे ही 1 करोड़ लोगों की जान जा चुकी थी ।

उत्तरप्रदेश के बिजनोर में केहरि पुर नाम का एक सुंदर से गाँव हुआ करता था जहाँ अब केवल जंगल ओर खेती ही होती है उसके पास के गांव के लोगो का कहना है कि पूरे गाँव के लोग वायरस की चपेट में आ गए थे और बहुत से लोग मर गए इस त्रासदी में गांव के लगभग एक तिहाई लोग मर चुके थे।लेकिन जो लोग बचे वो लोग गाँव को छोड़कर कहीं दूर निकल गए। और अपने घर ,खेती को यही छोड़ गए ।इस तरह पूरा गांव उजड़ गया ।धीरे धीरे गांव में घर खंडहर बन गए । ये त्रासदी इतनी भयानक थी कि मरे  लोगो को उठाने के लिए लोग तैयार नहीं थे ।एक के बाद एक ओर मौते होती जा रही थी।

समय बीतता गया और वह गांव मिट्टी के समतल मैदान में बदल गया।केहरिपुर  से 1 किलोमीटर दूर एक नया गांव बसा।जिसे हरपुर के नाम से जाना जाता है और इस गाँव के बुजुर्ग लोग इस केहरि पुर  की त्रासदी बताते हैं केहरि पुर में एक कुआ हुआ करता था जो आज एक खेत के बीच मे अवशेष के रूप में है ।
अब केहरि पुर में हरपुर गांव के लोग खेती करते हैं ।और अपनी जीविका चलते हैं वह उनकी आय का एक प्रमुख साधन बन चुका है।
हरपुर गांव एक बहुत छोटा सा गांव है

छिपे हुए जमातियों की सूचना देने पर 5000 Rs का इनाम, SP का ऐलान

0

कोरोना से मचे कोहराम चैन तोड़ने के लिए प्रसाशन ने भागे हुए तब्लीगीयो के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है । हिमाचल प्रदेश सरकार ने तब्लीगी जमात के लोगो पर कत्ल की कोसिस और खुद को प्रशासन से छुपाने को लेकर ये मुकदमा करना शुरू किया है ।

अब देश मे यूपी के आजमगढ़ शहर से ये खबर आ रही है कि वहाँ के SP ने जमातियों की सूचना देने पर 5000 रूपए का इनाम देने का एलान किया है । अगर आप आजमगढ़ में रह रहे है तो आप तब्लीगी समुदाय या फिर बाहर से आये लोगो की सूचना देने पर 5000 रुपए तक पा सकते है ।

इसके आगे SP आजमगढ़ ने कहा कि तब्लीगी जमात के लोग , लोगो के बीच मे ही छुप कर बैठे है ऐसे में लोगो की मदद से ही उनका पता लगाया जा सकता है । वैसे भी पब्लिक पुलिस की काफी मदद पहले भी कर चुकी है और इस महामारी से बचने के लिए भी आगे पब्लिक हमारे साथ मिल कर इस महामारी से लड़ने में हमारा सहयोग करेगी ।

इसे भी पढ़े – दिल्ली कांस्टेबल इमरान को तब्लीगी जमाती को अवैध रूप से बॉर्डर पार कराते समय UP पुलिस ने रंगे हाथ पकड़ा ।

और बताया कि 5000 Rs देने की पहल इस लिए शुरू की गई है ताकि जो गरीब लोग 21 दिन के LockDown से कमा नही पा रहे है उनको भी इस 5000 रुपए से मदद मिल जाएगी ।

आपको बता दे अप्रैल की शुरुवात में कोरोना संक्रमित लोगो की संख्या सिर्फ 1200 ही थी जिसमे से 600 लोग विदेशी और 600 लोगो को संक्रमित लोगो के पास जाने से संक्रमण हुआ था । लेकिन 7 अप्रैल को निजामुदीन मरकज़ से 2400 लोगो निकालने के बाद कोरोना संक्रमित लोगो की संख्या तेजी से बढ़ने लगी ।

पूछताछ पर पता चला है कि उस मरकज में जनवरी से करीब 1 लाख लोगों ने हिस्सा लिया था जिसमे देश और विदेश से आये लोग शामिल थे ।

( देश और विदेश के खबरों को तुरंत पाने के लिये हमारे सोशल एकाउंट को फॉलो करले । )

कॉन्स्टेबल Imran सात जमातियों को पार करा रहा था बॉर्डर । यूपी पुलिस ने रंगे हाथ पकड़ा

0

दिल्ली के एक पुलिस कांस्टेबल को अपने फर्ज से ज्यादा जरूरी अपने अपने धर्म के लोगो को बॉर्डर पर करवाना ड्यूटी से ज्यादा बड़ा फर्ज हो गया । दिल्ली के इमरान नाम के एक कांस्टेबल ने अवैध रूप 7 जमातियों को अपने वर्दी के सहारे दिल्ली का बॉर्डर पर करा दिया था । लेकिन यूपी पुलिस ने जमातियों को गाजियाबाद बॉर्डर पर ही दबोच लिया ।मिली जानकारी के अनुसार Imran Khan दिल्ली के पुलिस मुख्यालय में तैनात है और पुलिस ऑफिसर के पूछताछ के बाद Imran ने बताया कि वो अब तक करीब 100 से ज्यादा जमातियों को दिल्ली का बॉर्डर पार कराया है ।उन सभी को प्रशाशन ढूंढ रहा है और बॉर्डर पर मिले जमातियों को Qurantine के लिए भेज दिया गया है । जिसमे से 3 को कोरोना पॉजिटिव है ।दिल्ली पुलिस ने इस बात को मीडिया तक नही जाने दिया क्योंकि कोरोना की इस महामारी में सारी दुनिया इस बीमारी से जूझ रही है और दिल्ली पुलिस इस बात का पतंगड़ नही बनाना चाहती है ।( देश और दुनिया की खबरों को तुरंत पाने के लिए हमारे Facebook और Twitter पेज को लाइक करले )