15 C
Uttar Pradesh
Wednesday, January 20, 2021
Home Blog

फेसबुक के साथ अपना डाटा शेयर करने के नियम को WHATSAPP ने बदल दिया है.

0

हाल ही में WHATSAPP ने अपना फैसला बदल दिया है। WHATSAPP ने अपने STATUS में बताया की आपकी सभी PRIVACY और DATA को फेसबुक के साथ शेयर नहीं किया जायेगा
आखिर WHATSAPP आ गया अपनी लाइन पे।

WHATSAPP ने अपने WHATSAPP STATUS  पे शेयर की कुछ ऐसी बातें|

   

कुछ इस तरह से WHATSAPP  ने अपना फैसला बदल किया है।


इसे भी पढ़ना पसंद करें

WHATSAPP BAN…?

बिना पैसे PAN CARD कैसे बनाये कुछ ही समय में अपना PAN CARD तैयार करें।

0

अगर आपके पास PAN CARD नहीं है तो आपको चिंता करने जरुरत भी नहीं है हमारे बताये गए इस तरीके से अपना e-PAN CARD बना सकते हैं। और उसे खुद ही इंटरनेट से बना सकते हैं।

पैन कार्ड किसी भी प्रकार के वित्तीय लेनदेन करने के लिए भारत में स्वयं के पास मौजूद महत्वपूर्ण दस्तावेजों में से एक है। यदि आपके पास पैन कार्ड नहीं है, तो चिंता न करें। आप इस विधि का उपयोग करके मुफ्त में मिनटों में ही अपना ई-पैन कार्ड जारी कर सकते हैं

नीचे दिए गए कुछ उदाहरणों को देखें।

बिना पैसे PAN CARD कैसे बनाये कुछ ही समय में अपना PAN CARD तैयार करें।

STEP 1:– दी गयी वेबसाइट पे  CLICK करें

https:www.incometaxindiaefiling.gov.in

या फिर INCOMETAXDERPARTMENT  को गुगके सर्च करें
उसके बाद पहले हैडिंग को लें|

 STEP 2:-HOMEPAGE पर जाने के Instant PAN through Aadhaar पर click करें।

STEP 3:– वहा एक नया पेज खुलेगा वहा एक option होगा जो की ” Get New PAN Card ” पर क्लिक करें। 

STEP 4:–उसके बाद फिर एक नया पेज खुलेगा। उसके अंदर Aadhaar Card का नम्बर लिखे और capcha भरें। उसके बाद उसे ”I CONFIRM  THAT ”पे click कर दें

इस पूरी क्रिया में जरुरी ह की आपका आधार कार्ड मोबाइल नम्वर से लिंक होना चाहिए | तभी आप इसका लाभ उठा सकते हैं

STEP:–उसके बाद आपके फ़ोन नंबर पर एक OTP आएगा। वह VERIFICATION के लिया आएगा आप अपना पैन कार्ड NSDL और UTITSL के माध्यम से भी प्राप्त कर सकते हैं। लेकिन, आपको उनकी सेवाओं का लाभ उठाने के लिए कुछ शुल्क देना होगा| विधि आसान और मुफ्त है। तत्काल पैन सुविधा के तहत आधार कार्ड के जरिए ई-पैन कार्ड जारी करने में लगभग 10 मिनट लगते हैं। डीएनए की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि इस सुविधा के माध्यम से 7 लाख पैन कार्ड जारी किए गए हैं।

 

 

                                                   

 

WHATSAPP BAN…?

0

क्या  WHATSAPP BAN होने बाला है | क्या आपको भी यही लगता है की WHATSAPP BAN हो सकता है
आओ जानते है आखिर क्या बो ऐसी बात है जो WHATSAPP BAN पे संकट बानी हुई है


पिछले कुछ दिनों में दुनिया भर के 200 करोड़ लोगो को WHATSAPP पर एक नोटिफिकेशन मिला |

     “हो सकता ह ये नोटिफिकेशन आपको भी आये अगर नहीं आया है और आप WHATSAPP इश्तेमाल करते हैं तो ये NOTIFICATION आपको भी आएगा
और इसमें आपसे AGREE बटन दबाने के लिए कहा जायेगा | अगर आप उसका AGREE बाला बटन नहीं दबाते है तो आप WHATSAPP इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं
उसके बाद आपका WHATSAPP BAN हो जायेगा

तो आओ की बाह नोटिफिकेशन क्या है ….

तो हम आपकी जानकारी के लिए बता दें की WHATSAPP एक FREE APP है और इसे फेस बुक के संस्थापक MARK ZUCKERBERG  ने लगभग 20 अरब डॉलर में खरीद लिया है और फेसबुक ने इसे 2014 में नि:शुल्क किया, जिसका इश्तेमाल दुनिया भर के लगभग सभी लोग करते हैं

                                     AGREE

लेकिन सस्ती चीज़ के पीछे कोई न कोई कारण होता है
फेसबुक ने ही NOTIFICATION भेजी है जिसमे लिखा है की आपके WHATSAPP का डाटा हम फेसबुक के साथ शेयर करेंगे (D ATA:-  मतलब आपके फोटो,vedios ,contacts ) मतलब आपके WHATSAPP का सारा डाटा अब फेसबुक अपने पास रखना चाहता है
और अगर आप इन शर्तो को मानने से इंकार करते हैं तो आपका WHATSAPP BAN कर दिया जायेगा |

                                   AGREE   

आपका पर्सनल डाटा व्हाट्सप्प को चाहिए और ये डाटा व्हाट्सप्प FACEBOOK के साथ साझा करने की आज्ञा मांग रहा हैं अगर आप अपने डाटा को PRIVATE रखना चाहते हैं यदि आप WHATSAPP की शर्त को मानने से इंकार करते है तो आप अपने WHATSAPP ACOUNT को uninstall कर सकते हैं
WHATSAPP इस साल ये नई शर्ते लेके आया है जब 2009 में WHATSAPP ने अपनी सर्विसेज को लांच किया था तो  सुबिधा फ्री में देने का लालच दिया था और ये भी कहा था की आपके मेसेज और आपका डाटा प्राइवेट होगा और किसी के साथ भी साझा नहीं किया जायेगा
आज कल हर कोई WHATSAPP का इश्तेमाल क्र रहा है और क्यों न करे आखिर ये एक free service जो है
WHATSAPP के इस डाटा भंडार से FACEBOOK के साथ शेयर होने पर फब का bussness और बढ़ेगा और उसका अधिक से अधिक बिस्तार होगा

अब भारत में ही 40 करोड़ लोग अपनी पर्सनल और professional जिंदगी में WHATSAPP का इश्तेमाल करते हैं

लेकिन WHATSAPP BAN होने की बात है तो WHATSAPP BAN नहीं होगा सिर्फ आपका अकॉउंट बंद हो सकता है

अगर आप भी नमकीन के शौकीन हैं तो ये खबर आपके काम की है ,..😉

0

सुनिए। ……..

सभी नमकीन खाने बाले भाईसाहब और प्यारी बहानिओ के लिए आज की ख़बर। … 🙄🙄🙄🙄
अक्षर सभी लोग नमकीन को बड़े शोक से खाते हैं बात ये है की हम लोग भी शोक से ही खाते है
कुछ लोग ऐसे भी हैं जो की नमकीन को सफर में अपने साथ अपने बेग में बैठाकर ले जाते हैं हैं और जहा कही भी टाइम मिला नमकीन को
बड़े प्यार से निकालकर खाते हैं | कुछ लोग मुँह बिगाड़ बिगाड़ के खाते हैं | मेहमान आ गया तो नमकीन ही पहले घर में लाया जाता है
हम अब इसके बारे में ज्यादा कुछ न बोलके इसकी सुन्दर तस्बीरें दिखाना चाहते हैं |
फैक्टरी में ये नमकीन भाईसाहब बनाये कैसे जाते हैं मेने नमकीन को भाईसाहब बोल तो दिया लेकिन ये male है या female😉😉😉😉😉

तो चलो आओ देखते हैं नमकीन के PACK होने की कुछ सुन्दर तस्बीरे..

इस आदमी में नमकीन के ऊपर पैर रखा हुआ है | मतलब नमकीन की कोई इज्जत नहीं है
| अरे भाई हमारी तो फिकर कर हमने इसको खाना है यार

कोई इनको बोलो इतना अन्याय न करे नमकीन के LOVERS के साथ

ये सब देखने से पहले मैं मर क्यों नहीं गयी। 😂🤣

 

 

विदेशी समझ कर जिन 42 ब्रैन्ड्स को आप ख़रीद रहे थे, वो देसी हैं

0

हम इंडियन्स की आदत होती है विदेशी ब्रैन्ड्स के पीछे भागने की. किसी भी प्रोडक्ट पर अगर थोड़ा विदेशी नाम लिखा है, तो वो उसे स्वदेशी से बेहतर समझते हैं. लोगों की इसी सोच ने भारतीय कंपनियों को अपना नाम बदलने पर मजबूर कर दिया.

मज़े की बात ये है कि इन कंपनियों के ऐसा करते ही उनकी सेल्स के ग्राफ़ भी तेज़ी से ऊपर जाने लगा. आज हम आपको कुछ ऐसे ही ब्रैन्ड्स के बारे में बताएंगे जिनके नाम तो विदेशी हैं, लेकिन वास्तव में वो हैं देसी.

1- LOUIS PHILIPPE

                                                                                    मेन्स के लिए फ़ैशनेबल कपड़े बनाने वाली इस कंपनी को आदित्य बिरला ग्रुप की कंपनी Madura Fashion & Lifestyle ने 1989 में शुरू किया था

2-PETER ENGLAND

                                                                                आयरलैंड में स्थापित इस कंपनी का मालिकाना हक भी आदित्य बिरला ग्रुप के पास है. 1997 में इसे Madura Fashion & Lifestyle ने शुरू किया था

3-JAGUAR CARS

                                                                                              इसे 1936 में इंग्लैंड की कंपनी Jaguar Cars लिमिटेड ने स्थापित किया था. अब इसका मालिकाना हक टाटा ग्रुप के पास है|

4-ALLEN SOLLY

                                                                                          इस फ़ैशन ब्रांड का मालिकाना हक भी आदित्य बिरला ग्रुप के पास है

5-DA MILANO

यह कंपनी लेदर की चीजें बनती है,इसे 1936 में मलिक फै़मिली ने शुरू किया

6-MONTE CARLO

                                                                              Oswal Woollen Mills Limited कंपनी इसकी मालिक है, जिसकी पैरेंट कंपनी नाहर ग्रुप है

7-AMERICAN SWAN

इसका मालिकाना हक The American Swan Lifestyle Company के पास है, जो वास्तव में एक भारतीय कंपनी है ,लेदर से बने उत्पाद बनाने के लिये ये कंपनी प्रसिद्ध है. इसके मालिक हैं दिलीप कपूर. इन्होंने इसकी स्थापना 1978 में की थी

8-ROYAL ENFEILD                                                                                                         Enfield India Ltd इसकी ओनर है. इसे 1955 में भारत में शुरू किया गया था

9-LAKME                 

जे.आर.डी. टाटा ने इसे 1952 में स्थापित किया था. ये महिलाओं के लिए कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स बनाती है

10-EAST INDIA COMPANY

इसे British Empire COMPANY  ने 16वीं सदी में स्थापित किया था अब इसके मालिक संजीव मेहता हैं, जो एक भारतीय हैं|

11- AMRUT SINGLE MALT

Whisky के इस ब्रांड की पैरेंट कंपनी है Amrut Distilleries. ये भी एक इंडियन कंपनी है

12-FRANCO LEONE

                                                                                         1989 ME विशाल भांबरी ने इस फ़ैशन ब्रांड को शुरू किया था

13-VAN HUESEN

यूएसए और इंडिया में फ़ेमस इस फ़ैशन ब्रांड को 18वीं सदी में Phillips Family ने स्थापित किया था. अब इसके मालिक आदित्य बिरला ग्रुप है

14-MUNICH POLO

बच्चों के कपड़े बनाने वाली इस कंपनी का मालिकाना हक Munich Polo लिमिटेड कंपनी के पास है. ये भी एक भारतीय कंपनी है

15- FLYING MACHINE

Arvind Limited इसकी पेरेंट कंपनी है, जिसके सीईओ संजय लालभाई है. ये डेनिम के प्रोडक्ट्स बनाती है

17-AND DESIGNS

          House of Anita Dongre Limited नाम की कंपनी ने इसे 1995 में भारत में शुरू किया था

18-LA OPALA

La Opala RG Limited इसकी ओनर हैं जो Tableware प्रोडक्ट्स बनाती हैं. ये भी एक इंडियन कंपनी है

19-LAESEN AND TOURBO LIMITED

Henning Holck-Larsen and Soren Kristian Toubro इसकी पेरेंट कंपनी है. इसे 1938 में भारत में ही स्थापित किया गया था

20-CAFE COFFEE DAY

Coffee Day Enterprises Limited ने इसे भारत में 1996 में शुरू किया था

21-OLD MONK

रम के इस फ़ेमस ब्रांड को Mohan Meakin ने भारत में 1954 में स्किथापित किया था

22-Micromax

मोबाईल फ़ोन्स बनाने वाली इस कंपनी को राहुल शर्मा, विकास जैन, सुमित अरोड़ा और राजेश अग्रवाल ने 2000 में शुरू किया

23-Britannia

बेकरी प्रोडक्ट्स बनाने वाली इस कंपनी की नींव वाडिया ग्रुप ने1892 में रखी

24-MRF

टायर्स बनाने वाली इस कंपनी के मालिक K. M. Mammen Mappillai हैं. इन्होंने 1946 में इसकी शुरुआत की|

25-Ferns N Petals

1994 में शुरू हुई कंपनी के मालिक विकास गुटगुटिया हैं

26-RAYMOND 

Raymond Group ने इस फ़ैशन ब्रैन्ड की स्थापना की थी. ये भी एक भारतीय कंपनी है

27-WESTSIDE

Westside का ओनर भी टाटा ग्रुप है

28-SPYKAR

अपने उम्दा किस्म के डेनिम प्रोडक्ट्स के लिये फ़ेमस इस कंपनी के मालिक प्रसाद पबरेकर हैं

29-Park Avenue

अपने फ़ॉर्मल वियर के लिए फ़ेमस इस ब्रांड का मालिकाना हक रेयमंड ग्रुप के पास है

30-Knotty Derby and Arden Shoes

SHOES बनाने वाली इस कंपनी का मालिकाना हक Sumanglam Impex Private Limited के पास है

31-The Collective

इसे अादित्य बिरला नूवो ने साल 2008 में भारत में स्थापित किया था

32-Planet Fashion

फ़ैशन रिटेल स्टोर्स की इस चेन के ओनर आदित्य बिरला ग्रुप हैं

33-Redwolf

Independent Label के पास इसका मालिकाना हक है. इसे 2011 में भारत से शुरू किया गया

34-I-BALL

संदीप परसरामपुरिया इस इलेक्ट्रॉनिक प्रोडक्ट बनाने वाली कंपनी के ओनर हैं

35-Karbonn

मोबाइल फ़ोन और उससे संबंधित उत्पाद बनाने वाली ये कंपनी प्रदीप जैन की है. इसे उन्होंने 2009 में शुरू किया

36-LAVA

इसे साल 2009 में हरिओम राय, विशाल सहगल, सैलेंद्र नाथ राय और सैलेश राय ने शुरू किया था. ये मोबाइल फ़ोन और उससे जुड़े प्रोडक्ट बनाती है

37-EVERREADY

बैटरी, लैंप, चाय आदि बनाने वाली इस कंपनी का मालिकाना हक बी.एम. खैतान ग्रुप के पास है

38-ANCHOR

बिजली और उससे चलने वाले उत्पाद बनाने वाली ये कंपनी भी इंडियन है. इसे Panasonic Corporation ने साल 1963 में शुरू किया

39-INTEX

मोबाइल और इलेक्ट्रॉनिक आइटम्स बनाने वाली ये कंपनी नरेंद्र बंसल की है. इसे 1996 में शुरू किया गया

40-VIDEOCON

इलेक्ट्रॉनिक प्रोडक्ट बनाने वाली इस कंपनी की स्थापना वेणुगोपाल धूत ने 1979 में की

41-KENSTAR 

Kitchen Appliances India Limited के पास इसका मालिकाना हक है, ये घरेलू उत्पाद बनाती है

42-VOLTAS

घरेलू उत्पाद और दूसरे इंज़ीनियरिंग प्रोडक्ट बनाने वाली इस कंपनी का ओनर भी टाटा ग्रुप है,सब नाम का खेल है!

(अभी तक आप इन सब brands के बारे में क्या जानते थे अपनी राय comment में लिखना मत भूलना)….

 

 

 

 

 

VEGETARIAN AND NON VEGETARIAN TALKS.

0

आप लोग सोच रहे होंगे की हम आज इस topic को क्यों लेकर आये हैं | कि क्यों लोग non -Vegetarian हैं और बो क्यों animals को शिकार करते हैं |
बही कुछ लोग ऐसे भी हैं की जो pure Vegetarian होते हैं अक्षर अपने सुना होगा या आपके दोस्त होंगे जो पुरे शाकाहारी होंगे बो लोग हमेशा comment करते हैं की क्यों तुम लोग animals को मार् कर खाते हो लेकिन बो लोग ये नहीं जानते हैं की ये एक food chain है जो की प्रकृति की देन है नेचर को जैसा चाहिए अगर बैसा नहीं हुआ तो नेचर गुस्सा करती है इसलिए PEOPLE भी कर्नीवोरस होते हैं 


अब इस उदाहरण को ही लेलो :-                                                                                            शेर क्यों सिर्फ दूसरे जीवो जीव का मांश खाता है क्यों God ने उसे ऐसा DESIGN नहीं किया की बो घास को खा सके या FRUITS 🍋🥭 खा सके !

 


और कुत्ते को ही देख लो क्यों कुत्ता भी मांश ही खाना पसंद करता है |
ये एक ऐसे उदहारण हैं जो की COMMON हैं
ऐसा इसलिए होता ह क्युकी NATURE ने ये सब पहले से सुनिश्चित करके रखा हुआ है हम्मे से कोई भी उसमे दखल नहीं दे सकता |
सब कुछ नेचर की प्लानिंग के हसीब से होता है पुरे ब्रमांड में बही होगा जो नेचर के RULE LIST में आता है
एक बात और गौर करने बाली है , कुत्ता क्यों कुत्ते को मर कर खा नहीं सकता , कुत्ता क्यों कुत्ते की डेड बॉडी को नहीं खा ता है।
शेर क्यों शेर को शिकार नहीं कर सकता ?
क्युकी ऐसा होना नेचर के नियम के खिलाफ है


NOTE:- अगर आप ये पोस्ट को पढ़ रहे हैं तो अपना COMMENT देना मत भूलना |

सब लोग जानते हैं की आदिमानव जो लोग होते थे बो लोग शिकार से अपना खाना तैयार किया करते थे | और यह तक की उसे बिना पकाये ही खाते थे
जब तक आग का अविष्कार नहीं हुआ था तब तक बो मांश को कच्चा ही खाते थे

एक जीव दूसरे ANIMAL को खाता है (उपभोक्ता कहलाता है )यह NATURE के द्वारा ALLOW किया गया है इसलिए ये सब कुछ सम्भब है| और हर एक किसी न किसी का शिकार होता है किसी न किसी का खाना होता है

 


FOOD CHAIN:– 

 ” जीवों की वह श्रंखला जिसके प्रत्येक चरण में एक पोषी स्तर का निर्माण करते हैं जिसमे जीव एक-दूसरे का आहार करते हैं इसी RULE को FOOD CHAIN कहते हैं ”